PSU Watch logo

| Board approves merger of Lanco Teesta Hydro Power with NHPC |   | Power Ministry approves 23 new ISTS projects worth Rs 15,893 crore for RE projects |   | No plan to privatise existing coal mines, says Pralhad Joshi |   | RBI maintains India's FY22 GDP growth projection at 9.5% |   | Coal shortage cripples non-power sector as supplies to power sector prioritised |   | RBI to develop UPI for feature phones to boost digital payments |  

राजीव रंजन मिश्र की पुस्तक ‘असंभव-संभव’ का लोकार्पण संपन्न

वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (वेकोलि) के हाल ही सेवानिवृत्त हुए अध्यक्ष सह प्रबन्ध निदेशक राजीव रंजन मिश्र की पुस्तक 'संभव-असंभव' का विमोचन 15 जनवरी को किया गया

WCL's former CMD Rajiv Ranjan Mishra's book 'Asambhav-Sambhav' released
WCL's former CMD Rajiv Ranjan Mishra's book 'Asambhav-Sambhav' released

नई दिल्ली: "एक कोयला-कम्पनी धीरे-धीरे टीम में और फ़िर कैसे एक परिवार के रूप में तब्दील हो जाती है, इसका अद्भुत प्रस्तुतिकरण किया है इस पुस्तक के लेखक राजीव रंजन ने।" उक्त उद्गार सुप्रसिद्ध शिक्षाविद डॉ वेद प्रकाश मिश्रा ने आज यहां व्यक्त किया। वे वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (वेकोलि) के हाल ही सेवानिवृत्त हुए अध्यक्ष सह प्रबन्ध निदेशक राजीव रंजन मिश्र की पुस्तक 'संभव-असंभव' के विमोचन/लोकार्पण समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि यह देखना सुखद आश्चर्य है कि वेकोलि के अध्यक्ष सह प्रबन्ध निदेशक पद से दिसंबर 31 को रिटायर हुए राजीव रंजन ने 15 जनवरी को अपनी इस पुस्तक का लोकार्पण किया। डॉ मिश्रा ने कहा कि गत छह वर्षों में कम्पनी और उसके लोगों की विकास-यात्रा की यह सच्ची कहानी, सरकारी गैर सरकारी प्रतिष्ठानों में सबके लिए प्रेरक साबित होगी।

समारोह की अध्यक्षता, अध्यक्ष सह प्रबन्ध निदेशक मनोज कुमार ने की। उन्होंने कहा कि यह पुस्तक वेकोलि परिवार के लिए हमारे अग्रज राजीव रंजन जी का आशीर्वाद है। उन्होंने कहा कि कम्पनी के CMD और इस पुस्तक के लेखक के रूप में उनका मार्गदर्शन एवं योगदान हमारे लिए संजीवनी साबित होगा।

READ ALSO: आखिर क्यों हैं स्वामी विवेकानंद युवाओं के लिए प्रासंगिक?

अपना मनोगत व्यक्त करते हुए राजीव रंजन ने कहा कि इस पुस्तक के असली किरदार टीम वेकोलि के एक एक सदस्य हैं। मेरे कार्यकाल के दौरान की सभी उपलब्धियां भी उन्हीं की हैं। हां,यह बात अलग है कि उसका श्रेय वे मुझे देते हैं। विमोचन के बाद लेखक ने कम्पनी के रियल हीरोज शेखर रायप्रोलू एवं सुखदेव सिंह को पुस्तक की प्रतियां लोकार्पित की। नोशन प्रेस द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक को लिंक से प्राप्त किया जा सकता है। विदित रहे कि "संभव-असंभव" ने अपने प्रकाशन के मात्र 48 घंटे के सफर में ही विभिन्न श्रेणियों में बेस्ट सेलर में प्रथम स्थान पर है। स्वागत भाषण निदेशक कार्मिक डॉ. संजय कुमार ने किया।

कार्यक्रम में अनीता मिश्र, झंकार महिला मंडल की अनीता अग्रवाल, उपाध्यक्ष रीना कुमार, राधा चौधरी, आरती शुक्ला, श्रद्धा श्रीवास्तव तथा निदेशकगण डॉ संजय कुमार, अजित कुमार चौधरी, आर पी शुक्ला एव सीवीओ अमित कुमार श्रीवास्तव, वेकोलि संचालन समिति सदस्य, सभी क्षेत्रों के महाप्रबंधक तथा मुख्यालय के विभागाध्यक्ष प्रमुख रूप से उपस्थित थे। समारोह का संचालन एस पी सिंह, सलाहकार (जनसंपर्क) ने किया। यू ट्यूब के माध्यम से वेकोलि परिवार के सदस्य बड़ी संख्या में कार्यक्रम से जुड़े रहे। सभी ने लेखक मिश्र को बहुत-बहुत बधाई दी।

(PSU Watch- पीएसयू वॉच भारत से संचालित होने वाला  डिजिटल बिज़नेस न्यूज़ स्टेशन  है जो मुख्यतौर पर सार्वजनिक उद्यम, सरकार, ब्यूरॉक्रेसी, रक्षा-उत्पादन और लोक-नीति से जुड़े घटनाक्रम पर निगाह रखता है. टेलीग्राम पर हमारे चैनल से जुड़ने के लिए Join PSU Watch Channel पर क्लिक करें. ट्विटर पर फॉलो करने के लिए Twitter Click Here क्लिक करें)